बहुचर्चित अनुराग हत्याकांड में तकनीकी साक्ष्य इकट्ठा करने पहुँचे जांच टीम के अधिकारी

गिरफ्तार


बिहार:मुंगेर में 26 अक्तूबर 2020 में दुर्गा प्रतिमा विसर्जन के दौरान भगदड़ मचने में चली गोली से व्यवसाई अमरनाथ पोद्दार के एकलौता बेटा अनुराग पोद्दार की गोली लगने से मौत हो गई थी।

उस समय से ले कर आज तक यह मामला काफी चर्चा में बना हुआ है । और इस मामले को लेकर पीड़ित परिवार ने पटना उच्च न्यायालय का शरण लिया है।जिसके बाद जिले के एक पुलिस पदाधिकारी सुशील कुमार पर हत्याकांड में संलिप्त होने का आरोप लगाते हुए कोतवाली थाना में उच्च न्यायालय के आदेश के बाद प्राथमिकी दर्ज किया।

साथ ही उच्च न्यायालय ने इस मामले में मार्च 2021 में जांच का जिम्मा सीआईडी को सौंप दिया । तब से लेकर आज तक सीआईडी इस मामले की जांच कर रही है । पर अब तक सीआईडी के द्वारा जांच प्रतिवेदन उच्च न्यायालय में नही सौंपा गया और आज इस मामले की जांच को लेकर सीआईडी की टीम एफएस एल के साथ घटना स्थल कोतवाली थाना क्षेत्र के दीनदयाल चौक पहुंची ।

जहां से टीम के द्वारा तकनीकी साक्ष्य को इकट्ठा किया जा रहा है । ताकि उच्च न्यायालय में सीआईडी अपना जांच रिपोर्ट सौंप सके । बताते चले की इससे पहले भी सीआईडी और एफएसएल के द्वारा घटना स्थल पर पहुंच जांच कर चुकी है । वहीं इस सारे प्रकरण में पीड़ित परिवार के वकील ओम प्रकाश ने बताया कि एक साल से ऊपर बीतने के बाद भी सीआईडी ने अब तक अपना जांच रिपोर्ट सबमिट नहीं किया है । जबकि उच्च न्यायालय ने तीन माह के अंदर ही अपना जांच रिपोर्ट सौंपने का आदेश सीआईडी को दिया था ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.