जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में कोविड-19 वैक्सीन की तैयारी हेतु जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक आयोजित

टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों का डाटाबेस की तैयारी अंतिम चरण में।

  • सभी चिकित्सा प्रभारियों एवं प्रखंड बाल विकास परियोजना पदाधिकारी को शीघ्र शेष डाटा उपलब्ध कराने का डी. एम. ने दिया निर्देश।

किशनगंज(बिहार)कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर टीका आने में फिलहाल कुछ वक्त लग सकता है. लेकिन जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना टीकाकरण की कवायद शुरू कर दी गयी है. वैक्सीन उपलब्ध होने पर प्रथम चरण में सरकारी व गैर सरकारी स्वास्थ्य संस्थाओं में कार्यरत कर्मी व आईसीडीएस सेवाओं से जुड़े कर्मियों को कोरोना. टीकाकरण से जुड़ी जानकारी साझा करने के उद्देश्य से आदित्य प्रकाश, जिला पदाधिकारी-सह-अध्यक्ष, जिला स्वास्थ्य समिति की अध्यक्षता में कोविड-19 वैक्सीन की तैयारी हेतु जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक समाहरणालय के सभा कक्ष में आयोजित की गई| बैठक की शुरुआत में डब्लू.एच.ओ एसएमओ अमित कुमार के द्वारा पीपीटी के माध्यम से कोविड-19 वैक्सीन की तैयारी से संबधित बिंदुओं पर प्रस्तुति की गई।

प्रथम चरण में सभी सरकारी व गैर सरकारी स्वास्थ्य कर्मी होंगे टीकाकृत: बैठक में जानकारी देते हुए जिला पदाधिकारी आदित्य प्रकाश ने कहा कि देश में कोरोना वैक्सीन का ट्रायल अपने अंतिम दौर में है. टीकाकरण के प्रथम चरण में सभी सरकारी व गैर सरकारी स्वास्थ्य संस्थानों में कार्यरत कर्मी के साथ-साथ संस्थान से जुड़े अन्य लोगों एवं आईसीडीएस के कर्मियों को टीकाकृत किया जाना है. जब संक्रमण का दौर अपने चरम पर था. तो लोगों के बीच जरूरी स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के कार्य में इन्होंने कोरोना वारियर्स की भूमिका निभाई. माना जा रहा है अब भी संक्रमण का खतरा स्वास्थ्य विभाग एवम आईसीडीएस से जुड़े कर्मियों को अधिक है. लिहाजा प्रथम चरण में उन्हें टीकाकृत किया जाएगा .

कर्मियों का डेटाबेस किया जाएगा तैयार: कर्मियों का डेटाबेस हो रहा तैयार है जिसे भारत सरकार के वेबसाईट पर भी अपलोड करने का कार्य साथ साथ किया जा रहा है। जिले के सिविल सर्जन, डॉ श्री नंदन ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि प्रथम चरण में कोरोना का टीका सभी सरकारी व निजी चिकित्सा कर्मी को उपलब्ध कराया जायेगा. इसी तरह आईसीडीएस, सीडीपीओ कार्यालय सहित आंगनबाड़ी सेविका व सहायिकाओं को भी प्रथम चरण में टीकाकृत किये जाने की योजना है. इतना ही नहीं गांव में अपना निजी क्लिनिक का संचालन करने वाले प्रैक्टिशनर, आयुर्वेद, होमियोपैथ, युनानी पद्धति से उपचार करने वाले चिकित्सक तक को इसमें शामिल किया जाना है. ताकि उन्हें टीकाकरण के दायरे में शामिल किया जा सके.

जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में जिलास्तरीय टास्क फ़ोर्स का गठन :
स्वस्थ्य विभाग के प्रधान सचिव द्वारा जारी पत्र के आलोक में जिलास्तरीय टास्क फ़ोर्स में जिला पदाधिकारी डॉ आदित्य प्रकाश अध्यक्ष एवं जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ रफत हुसैन सदस्य सचिव की भूमिका निभाएंगे। इसके अलावा सभी विभागों के प्रमुख को सदस्य बनाया गया है इसी क्रम में जिला एवं प्रखंड स्तर पर भी नियमित रूप से कोरोना संक्रमण की टीकाकरण की तैयारी हेतु समीक्षा की जानी है, जिसमें स्वस्थ्य विभाग के साथ-साथ अन्य विभागों की सहभागिता को अत्यंत आवश्यक बताया गया है|
वैक्सीन की खुराक देने में विभागीय निर्देशों का किया जाएगा पालन :
सिविल सर्जन श्रीनंदन ने बताया कि स्वस्थ्य विभाग द्वारा जारी पत्र में लोगों को वैक्सीन की खुराक देने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा आवश्यक प्रखंडो एवं शहरी क्षेत्रो में वरीय पदाधिकरियो की जिम्मेवारी तय की जाएगी, ताकि समाज का एक भी व्यक्ति वैक्सीन से वंचित नहीं रहे और सुविधाजनक तरीके से लोगों को वैक्सीन की खुराक दी जा सके। साथ ही वैक्सीन की खुराक देने वाले कर्मी भी विभागीय निर्देशों का पालन करेंगे।
बैठक में शामिल पदाधिकारी एवं अन्य :
बैठक में जिले के सिविल सर्जन, उप समाहर्ता, राजस्व, जिला शिक्षा पदाधिकारी, अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी, , जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी, बाल विकास परियोजना पदाधिकारी, आई.सी.डी.एस., जिला पंचायती राज पदाधिकारी, जिला खेल पदाधिकारी, समादेष्टा, जिला अल्पसंख्यक पदाधिकारी, जिला श्रम संसाधन पदाधिकारी, जिला खनन पदाधिकारी, जिला कल्याण पदाधिकारी, जिला प्रतिनिधि, यूनिसेफ, डब्लू.एच.ओ., केयर इंडिया, जिला सूचना एवं जनसंपर्क पदाधिकारी, स्टेशन अधीक्षक सहित अन्य मौजूद रहे |
इन मानकों का करें पालन, कोविड-19 संक्रमण से रहें दूर :-

  • दो गज की शारीरिक-दूरी का हमेशा पालन करें।
  • मास्क और सैनिटाइजर का नियमित रूप से उपयोग करें।
  • साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें।
  • खुद के साथ-साथ दूसरों को भी जागरूक करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published.