पुलवामा के शहीदों के याद मेगा हेल्थ शिविर का आयोजन कर चिकित्सकों ने श्रधांजलि दी

बनियापुर(सारण)पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के जवानों की याद में छपरा के चिकित्सकों ने मेगा हेल्थ कैम्प का आयोजन कर अपनी श्रद्धांजलि दी हैं। पूरे देश में जवानों की शहादत को अपने अपने तरीके से श्रद्धांजलि अर्पित की जा रही हैं। और सीआरपीएफ जवानों के बलिदान को याद कर रहा है।

पुलवामा आतंकी हमले के दो साल बाद आज भी देश को वह दिन याद है, जब एक आत्मघाती हमलावर ने सुरक्षाबलों को ले जा रही एक बस में आईईडी लदी गाड़ी से टक्कर मारी थी। इस आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। हर गुजरता दिन इतिहास में कुछ घटनाओं को जोड़कर जाता है। 14 फरवरी का दिन भी इसका अपवाद नहीं है इतिहास में 14 फरवरी के नाम पर भी बहुत सारी घटनाएं दर्ज हैं। 14 फरवरी का दिन इतिहास में जम्मू कश्मीर की एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। दो बरस बीते, लेकिन उस घटना के जख्म आज तक हरे हैं।पूरे देश में किसी को यादगार पल बनाने के लिए कई तरह की कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है। वहीं बनियापुर के पैगम्बरपुर गांव स्थित ठाकुरबाड़ी में भी एक हेल्थ कैंप का आयोजन कर पुलवामा के शहीदों को याद किया गया हैं। चिकित्सकों की टीम व स्थानीय सामाजिक कार्यकर्ताओं ने शहीदों को याद कर श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद निःशुल्क चिकित्सा सह परामर्श शिविर का विधिवत उद्घाटन किया गया। चिकित्सा शिविर में आये लगभग पांच सौ मरीज़ो को मुफ्त ईलाज दिया गया। मरीजों को कोई परेशानी न हो इसको ध्यान में रखते हुए मुफ्त द्वावा का वितरण भी किया गया।

चिकित्सा सह परामर्श शिविर में छपरा शहर के जाने माने चिकित्सक डॉ. आरके सिंह, डॉ. डीके सिंहा, हड्डी व नस रोग विशेषज्ञ डॉ. आलोक कुमार सिंहा, शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. राकेश कुमार वर्मा, दन्त रोग विशेषज्ञ डॉ. विवेक कुमार, डॉ. बंदना कुमारी, स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. रुपाली रस्तोगी, डॉ. रविरंजन, नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. शम्भू कुमार ने रोगियों को परामर्श देने के बाद निःशुल्क दवा का वितरण भी किया। वहीं मरीजो की खून, रक्त व अन्य जांच के लिए पैथोलॉजिस्ट मंजय कुमार शर्मा भी मौजूद थे।

कैम्प में पैगम्बरपुर गांव के अलावें आसपास के एक दर्जन गांवों के सैकड़ो मरीजो को निःशुल्क परामर्श व दवा उपलब्ध कराया गया। आयोजन व्यवहार न्यायालय के अधिवक्ता सह स्थानीय समाजिक कार्यकर्ता मनोज कुमार रस्तोगी द्वारा किया गया। चिकित्सा शिविर का नेतृत्व डॉ. कुमार रविरंजन एवं डॉ. रुपाली रस्तोगी द्वारा किया गया।

गर्भवती महिलाओं में एनीमिया की होती हैं शिकायत: डॉ रुपाली
छपरा की महिला रोग विशेषज्ञ डॉ रुपाली रस्तोगी ने बताया कि सुदूर ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं व युवतियों को एनीमिया की शिकायत, गर्भवती महिलाओं को कैसे रहना चाहिए जिससे जच्चा व बच्चा सुरक्षित रहे सहित कई तरह की शिकायत होती हैं लेकिन जानकारी के अभाव में सही समय पर उसका उपचार नही हो पाता है जिस कारण बाद में रोग भयावह स्थिति में आ जाता हैं। उसी को लेकर बनियापुर प्रखंड के पैगंबरपुर गांव स्थित रामजानकी ठाकुर बाड़ी परिसर में मुफ़्त चिकित्सा एवं दवा वितरण शिविर का आयोजन किया गया हैं। जिसमें गांव की सैकड़ों महिलाओं व युवतियों को जांच के बाद उचित सलाह दिया गया। इस कोरोना काल में किस तरह से अपना बचाव करना चाहिए और एनीमिया की शिकायत दूर करने के लिए अपने खानपान पर विशेष ध्यान देने के लिए हरी सब्जी, पालक, दूध, अंडा अपने आहार में शामिल कर सकते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.