गोल्डन कार्ड बनाने के लिये आयुष्मान भारत योजना के तहत पंचायतवार आयोजित हो रहा शिविर

आयुष्मान पखवाड़ा के तहत शत प्रतिशत लाभुकों को गोल्डन कार्ड उपलब्ध कराने की है योजना

अररिया(बिहार)आयुष्मान भारत योजना के तहत चिह्नित लाभुकों को गोल्डन कार्ड निर्गत किये जाने को लेकर जिले में विशेष पखवाड़ा आयोजित किया जा रहा है। इसके तहत पंचायतवार शिविर आयोजित कर पात्र लाभुकों को गोल्डन कार्ड उपलब्ध कराया जाना है। मालूम हो कि गोल्डन कार्ड की अनुपलब्धता की वजह से सैकड़ों पात्र परिवार योजना का लाभ नहीं उठा पा रहे हैं। गौरतलब है कि योजना के तहत लाभुकों को हर साल पांच लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराने का प्रावधान है। इसे लेकर 22 फरवरी से 15 दिवसीय विशेष पखवाड़ा का आयोजन जिले में किया जा रहा है। इसमें जिले के सभी पंचायतों के आरटीपीएस काउंटर पर गोल्डन कार्ड निर्माण के लिये विशेष इंतजाम किये गये हैं। कार्ड के निर्माण व इसके वितरण में पंचायती राज विभाग के कार्यपालक सहायकों की मदद ली जा रही है।

महज छह प्रतिशत लाभार्थियों के पास ही गोल्डन कार्ड:
जिले के तीन लाख 85 हजार 852 परिवारों के 18 लाख 40 हजार 695 लाभुकों को आयुष्मान भारत योजना का लाभ उपलब्ध कराया जाना है। इसमें कुल 57 हजार 169 परिवार ऐसे हैं, जिनके किसी एक सदस्य का गोल्डन कार्ड बनाया जा चुका है। इस संबंध में आयुष्मान भारत योजना के नोडल अररिया वेंकटेश कुमार ने बताया कि जिले में अब तक एक लाख चार हजार 133 लोगों का गोल्डन कार्ड बनाया जा चुका है। उन्होंने कहा कि आयुष्मान भारत योजना के तहत 15 प्रतिशत चिह्नित लाभार्थी परिवारों का गोल्डन कार्ड निर्गत किया जा चुका है। कुल लाभार्थियों के महज छह प्रतिशत लोगों के पास ही गोल्डन कार्ड उपलब्ध है। फिलहाल जिले के तीन लाख 28 हजार 683 परिवारों के 17 लाख 36 हजार 562 लोगों का गोल्डन कार्ड निर्गत किया जाना शेष है।

शिविर में भाग लेने के लिये आधार व राशन कार्ड लाना जरूरी:
गोल्डन कार्ड निर्गत किये जाने को लेकर जिले के सभी पंचायत कार्यालय व पंचायत सरकार भवनों में शिविर आयोजित किया जा रहा है। गोल्डन कार्ड की चाहत रखने वाले पात्र परिवारों के लिये अपना राशन कार्ड व आधार कार्ड लाना अनिवार्य है। इसके आधार पर संबंधित लोगों का नाम सूची में तलाश कर कार्ड जेनरेट करने के लिये संबंधित पोर्टल पर ऑन लाइन रिक्वेस्ट किया जाता है। इसके अप्रूवल के बाद संबंधित कार्यपालक सहायक के लॉग इन पर यह दिखेगा। कार्यपालक सहायक कार्ड डॉउनलोड करके इसे लाभुकों को उपलब्ध कराएँगे। ये पूरी प्रक्रिया नि:शुल्क है। इसके लिए लाभुक से किसी तरह का कोई शुल्क नहीं लिया जाना है।

आयुष्मान भारत से सूचीबद्ध हैं नजदीकी कई अस्पताल:
जिले व इसके आसपास के अन्य जिलों के कई अस्पताल आयुष्मान भारत योजना से संबंद्ध हैं। जहां गोल्डन कार्ड धारी आसानी से योजना का लाभ उठा सकते हैं। आयुष्मान भारत योजना के नोडल पदाधिकारी वेंकटेश कुमार ने बताया कि अररिया में मोहनी देवी रूंगटा हॉस्पिटल, योगमाया देवी अस्पताल, लाइंस नेत्रालय फारबिसगंज आयुष्मान भारत से सूचीबद्ध हैं। इसी तरह पूर्णिया के अमला हेल्थ रेंटर, अलसफा हॉस्पिटल, द्रोपदी नेत्रालय, विशाल हॉस्पिटल योजना के तहत सूचीबद्ध हैं। कटिहार स्थित सत्यभामा नेत्रालय, रेडियंट हॉस्पिटल, मार्क हॉस्पिटल, कटिहार मेडिकल कॉलेजा व किशनगंज के एमजीएम मेडिकल कॉलेज व मधेपुरा मेडिकल कॉलेज के योजना से सूचीबद्ध होने की जानकारी उन्होंने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *