पूर्णिया में मिशन इंद्रधनुष 4.0 टीकाकरण के तीसरे चरण की हुई शुरुआत

  • सिविल सर्जन द्वारा बच्चे को दवा पिलाकर किया गया कार्यक्रम का उद्घाटन
  • आठ दिवसीय अभियान में सामान्य टीकाकरण से वंचित 0-2 वर्ष के बच्चों और गर्भवती महिलाओं को लगेगा टीका
  • तीसरे चरण में जिले के 5959 बच्चों और 1325 गर्भवती महिलाओं को लगाया जाएगा टीका

पूर्णिया(बिहार)कोरोना संक्रमण के दौरान जिले में नियमित टीकाकरण से वंचित 0 से 02 वर्ष के सभी बच्चों एवं गर्भवती महिलाओं के नियमित टीकाकरण के लिए स्वास्थ्य विभाग के मिशन इंद्रधनुष 4.0 अभियान के तीसरे चरण की शुरुआत सोमवार को हुई। सिविल सर्जन डॉ. एस के वर्मा द्वारा धमदाहा प्रखंड के मोकमा, बिशनपुर में अभियान की शुरुआत उपस्थित बच्चों को दवा पिलाकर की गयी। इस दौरान जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ विनय मोहन, यूनिसेफ एसएमओ मुकेश कुमार गुप्ता, डब्ल्यूएचओ एसएमओ अनीस-उर-रहमान भुइयां, एसडीएच धमदाहा के प्रभारी उपाधीक्षक डॉ. राज आर्यन, बीसीएम सुशील कुमार, हेल्थ एडूकेटर अशोक कुमार, महिला पर्यवेक्षिका सुषमा स्वराज, आशा फेसिलेटर पिंकी कुमारी, स्थानीय आशा कर्मी, आंगनवाड़ी सेविका सहित स्थानीय ग्रामीण उपस्थित रहे।

मिशन इंद्रधनुष के अंतिम चरण में सभी वंचित बच्चों को लगेगा टीका :
अभियान का उद्घाटन करते हुए सिविल सर्जन डॉ. वर्मा ने कहा कि कोरोना संक्रमण के काल में बहुत से बच्चे सामान्य टीकाकरण से वंचित रह गए थे जिसे पूरा करने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिशन इंद्रधनुष अभियान चलाया जा रहा है। इसे तीन चरणों में पूरा किया जाना था। जिसका दो चरण मार्च एवं अप्रैल में पूरा कर लिया गया है। आज से इसके तीसरे व अंतिम चरण की शुरुआत की गई । इस दौरान जिले के सभी प्रखंडों में चिह्नित सामान्य टीकाकरण से वंचित बच्चों के साथ गर्भवती महिलाओं को आवश्यक टीका लगाया जाएगा। इसके लिए सभी प्रखंडों को निश्चित लक्ष्य दिया गया है जिसके अनुसार सभी वंचित लोगों को नियमित टीका लगाया जा सके। सिविल सर्जन ने कहा कि नियमित टीकाकरण का लाभ उठाने से बच्चे भविष्य में किसी बीमारी का शिकार होने से सुरक्षित रह सकते हैं। इसके साथ ही होने वाले बच्चों के स्वस्थ्य होने के लिए गर्भवती महिलाओं को भी टीका लगाना आवश्यक है। इसलिए सभी लोगों को अभियान में शामिल होकर नियमित टीका जरूर लगाना चाहिए।

5959 बच्चों एवं 1325 गर्भवती महिलाओं को लगाया जाएगा टीका :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. विनय मोहन ने बताया कि मिशन इंद्रधनुष 4.0 के तीसरे चरण के लिए सभी प्रखंडों में नियमित टीकाकरण से वंचित बच्चों और गर्भवती महिलाओं को चिह्नित किया गया है। मिशन इंद्रधनुष अभियान के तीसरे चरण में जिले के 5959 बच्चों को जो दो साल से कम उम्र के हैं और 1325 गर्भवती महिलाओं को टीका लगाया जाएगा। इसके लिए जिले के सभी 14 प्रखंडों में कुल 520 सेशन साइट्स बनाए गए हैं। जहां बच्चों और महिलाओं को टीका लगाया जाएगा। अभियान के दौरान गर्भवती महिलाओं को आवश्यक जांच के साथ आयरन व कैल्सियम की गोलियां भी दी जाएगी व उन्हें टेटनस व डिप्थीरिया का टीका लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि मिशन इंद्रधनुष 4.0 अभियान के तीसरे चरण में दो साल से कम उम्र के बच्चों को बीसीजी, ओपीवी, पेटावलेंट, रोटा वैक्सीन, आईपीवी, मिजल्स, विटामिन ए, डीपीटी बूस्टर जैसे टीके लगाए जायेंगे।

आमलोगों को लगाया जा रहा कोविड-19 का भी टीका :
एसडीएच धमदाहा के प्रभारी उपाधीक्षक डॉ. राज आर्यन ने कहा कि मिशन इंद्रधनुष 4.0 अभियान द्वारा 0-2 वर्ष के बच्चों व गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण के साथ ही जिले में 12 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 संक्रमण से सुरक्षा के लिए भी टीका लगाया जा रहा है। 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोविड-19 टीका के दूसरे डोज लगाने के 09 महीने पूरे होने पर उन्हें प्रीकॉशन डोज भी लगायी जा रही है। उन्होंने कहा कि सभी लोगों को संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए तीन डोज सुरक्षा का जरूर लगाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.