सदर अस्पताल में हुई विटामिन-ए टीकाकरण अभियान की शुरुआत

  • 09 माह से 05 वर्ष तक के सभी बच्चों दी जाएगी विटामिन ए की खुराक
  • हर घर तक पहुंच कर स्वास्थ्यकर्मी बच्चों को देंगे विटामिन ए
  • बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता को विकसित करने में सहायक होता है विटामिन ए

कटिहार(बिहार)जिले में 23 से 26 दिसंबर तक विटामिन ए खुराक अभियान चलाया जाएगा। बुधवार को इस अभियान की शुरुआत जिला गैर संचारी रोग (एनसीडी) पदाधिकारी डॉ. बी. के. गोपालका एवं प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. डी. एन झा द्वारा संयुक्त रूप से सदर अस्पताल में बच्चे को विटामिन ए की खुराक पिलाकर की गयी । इस दौरान एनसीडी पदाधिकारी डॉ. बी. के. गोपालका ने कहा कि विटामिन ए टीका 09 माह से 05 वर्ष तक के सभी बच्चों को मिलना जरूरी है। विटामिन ए की कमी ही शिशु मृत्यु दर की मुख्य वजह होती है। इसलिए इसकी खुराक प्रत्येक बच्चे तक पहुँचाना सभी स्वास्थ्य कर्मियों के लिए अनिवार्य है। इसके लिए प्रत्येक 6 माह में अभियान चलाया जाता है। इस बार भी हमें सभी बच्चों तक विटामिन ए की खुराक पहुँचानी है। बच्चों के बेहतर स्वास्थ्य के लिए इस अभियान की शत-प्रतिशत सफलता जरूरी है । कार्यक्रम में एनसीडी व डीआईओ पदाधिकारी के साथ डीपीएम मनीष कुमार, केयर इंडिया से डीटीओ-ऑन राहुल सोनकर, अस्पताल उपाधीक्षक डॉ. आर. एन. पंडित, अस्पताल प्रबंधक भावेश कुमार, डॉ. एम. के. मनीष, लेखापाल रितेश कुमार, केयर ब्लॉक मैनेजर निशांत कुमार व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे।

23 से 26 दिसंबर तक चलेगा कार्यक्रम :
जिला प्रतिरक्षण पदाधिकारी डॉ. डी. एन. झा ने बताया कि विटामिन ए टीकाकरण अभियान 23 से 26 दिसंबर तक चलाया जाएगा। इस दौरान स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा घर-घर जाकर बच्चों को विटामिन ए की दवा पिलाई जाएगी। 4 दिवसीय अभियान के दौरान स्वास्थ्य कर्मी 2 दिन गृह भ्रमण व 2 दिन आंगनवाड़ी केंद्रों या टीकाकरण स्थल पर बच्चों को विटामिन ए खुराक पिलायेंगे। एक अतिरिक्त दिन में घर-घर जाकर छूटे हुए सभी बच्चों को खुराक दी जाएगी। ऐसे बच्चे जो 6 माह के अंदर विटामिन ए की दवा ले चुके हैं और जो बच्चे सर्दी, खांसी या बुखार से पीड़ित हैं उन्हें विटामिन-ए की खुराक नहीं दी जानी है। खसरा संक्रमित बच्चों को विटामिन ए की दुगुनी खुराक देनी है। अभियान को सफल बनाने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को सभी घरों के साथ ही बच्चों को टीकाकृत कराने का निर्देश सिविल सर्जन द्वारा दिया गया है।

विटामिन ए की कमी से होती है रतौंधी व अंधापन :

डीआईओ डॉ. झा ने बताया कि विटामिन ए की कमी से बच्चों में रतौंधी व अंधापन की समस्या हो जाती है। डब्लूएचओ के अनुसार विश्व में करीब 2.5 लाख बच्चे प्रतिवर्ष विटामिन ए की कमी से अंधेपन के शिकार होते हैं। इससे बचने के लिए 09 माह से 05 वर्ष तक के सभी बच्चों को प्रत्येक 06 माह में विटामिन ए का टीका दिया जाना चाहिए। विटामिन ए बच्चों के स्वास्थ्य एवं पोषण स्तर में सुधार लाने के साथ ही उनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता के विकास मं् सहायक होता है।

विटामिन ए की कमी दूर करने के लिए इन खाद्य पदार्थों का करें सेवन :
लोगों को विटामिन ए की कमी दूर करने के लिए संतुलित मात्रा में खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। साग व हरी सब्जियों में विटामिन ए की प्रचुर मात्रा उपलब्ध होती है। कदीमा विटामिन ए के श्रोत के लिए उत्तम सब्जियों में से एक है। गांव में कुम्हड़े की सब्जी भी पाई जाती है जिसके छिलकों को चबाकर खाने चाहिए जिसमें विटामिन ए की प्रचुरता होती है। इसके अलावा दूध, अंडा, कलेजी इत्यादि भी विटामिन ए के लिए लाभदायक होता है।

अभियान में कोविड प्रोटोकॉल का रखना है ध्यान :
विटामिन ए टीकाकरण अभियान के दौरान सभी स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखना है। उन्हें मास्क, ग्लब्स
का इस्तेमाल करने के साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल रखना जरूरी है। स्वास्थ्य कर्मी किसी दूसरे का संपर्क न करते हुए दवा परिजनों को देते हुए अपने सामने उनका सेवन करवाएंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *