परिस्थितियों से परिचित कराते हैं कार्टून- कार्टूनिस्ट इरफान

भोपाल 25 फरवरी। माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय में आज जनसत्ता अख़बार के  प्रसिद्ध कार्टूनिस्ट इरफान छात्रों से रूबरू हुए।

अपनी बात शुरू करते हुए इरफान  ने कहा कि कार्टून एक ऐसा माध्यम है जिससे लोगों को परिस्थितियों से परिचित कराया जाता है।

कार्टून बनने की स्थिति को व्यक्त करते हुए उन्होंने बताया कि यदि कोई ऐसा कार्य हो जाय जो नहीं होना चाहिए तो उस पर कार्टून बनता है। कार्टून बनाने के लिए मुख्यत: पांच बातों का ज्ञान होना आवश्यक है, पहला कार्टूनिस्ट एक अच्छा चित्रकार हो , उसे स्थिति की समझ के साथ समाचार की परख हो, हास्यवृत्ति का उचित प्रयोग करते हुए संदर्भ का ज्ञान हो।  वर्तमान समय में व्यंग सब से आगे है लेकिन आज के लोग व्यंग और उपहास में अंतर करना नहीं जानते हैं।

कार्टूनिस्ट विशुद्ध रूप से पत्रकार होता है- इरफान

कार्टूनिस्ट की सबसे बड़ी विशेषता यह होती है कि वह विशुद्ध रूप से पत्रकार होता है जो आड़ी तिरक्षी रेखाओं के माध्यम से बात को कहता है और इसके साथ ही वह उन मुद्दों को रेखांकित करता है जो समाज के लिए आवश्यक होते हैं। इन सब के अलावा पढ़ना भी अति आवश्यक है।

एक कार्टूनिस्ट की चुनौती को रेखांकित करते हुए उन्होंने बताया कि कानूनी सीमाओं को ध्यान में रखते हुए स्वतंत्र रूप से कार्टून बनाना आवश्यक होता है। यदि किसी प्रकार की लगाम लगाई जाती है तो कार्य करना कठिन हो जाता है।

भीड़ से अलग होने के लिए बने रचनात्मक – इरफान

छात्रों द्वारा किए गए प्रश्नों का उत्तर देते हुए उन्होंने कहा कि  आज का समय बदल गया है आज कोई भी कार्टूनिस्ट पहले की अपेक्षा ज्यादा कार्य कर रहा है उसे समाचारों की रफ्तार से कदम ताल करना है। यद्यपि आज तकनीकी आ गई है लेकिन बेसिक कार्य जैसे स्केच बनाना तो आप को आना ही चाहिए।

आप को कई विकल्प रखने चाहिए आप एक ही जगह पर अपने मन का सब कुछ नहीं कर सकते।

अगर अपने ठान लिया है कि आपको कहां जाना है तो रास्ता खुद ब खुद बन जाएगा।

आप जो भी कार्य कर रहे हैं उसे पूरी ईमानदारी से और सशक्त रूप से जरिए।

अपनी सीमाओं का हमेशा ध्यान रखते हुए कार्य करें।

अधिक से अधिक पढ़े और जिस विषय पर कार्टून बना रहे हैं, उसके बारे में पूरी जानकारी रखें।आपका प्रयास ये होना चाहिए कि आज के समय में आप लोगों की उम्मीदों पर खरे उतरे।

समाज में खिले फूल की तरह हैं कार्टूनिस्ट -प्रो. अरुण त्रिपाठी

कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापित करते हुए प्रो. अरुण त्रिपाठी ने कहा कि ये मायने नहीं रखता कि आपने जंग कितनी जीती है सवाल ये है कि आपने कभी हार नहीं मानी और ये बात इरफान जी के लिए सटीक बैठती है।वर्तमान समय में कार्टूनिस्ट हमारे समाज में खिले हुए फूल की तरह होता है।

कार्यक्रम का संचालन प्राध्यापक डॉ विष्णु राजगढ़िया ने किया और प्राध्यापक डॉ रंजन ने विभाग की ओर से पुस्तक भेंट की।

Leave a Reply

Your email address will not be published.