दहेज कुप्रथा के स्लोगन के साथ ग्यारह सौ कन्याओं ने किया कलश यात्रा

महाराजगंज(सीवान)प्रखंड क्षेत्र के जिगरावां बोदा मठिया गांव में शनिवार को नव निर्मित गायत्री ज्ञान मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा के लिए ग्यारह सौ कन्याओं ने कलश यात्रा निकाला गया।कलश यात्रा में हाथी,घोड़ा बैंड बाजा और ध्वज के साथ समाज में दहेज रूपी कुप्रथा के खिलाफ स्लोगन लिखा दहेज लेना पाप है बोर्ड लेकर लड़के चल रहे थे।

कलश यात्रा हहवाँ होते हुए जिगरावां गायत्री ज्ञान मंदिर पर आकर समाप्त हो गया। आयोजन समिति के संयोजक लालबहादुर ने बताया कि गायत्री ज्ञान मंदिर की स्थापना का मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों में ज्ञान के अभाव को दूर करना है। समय-समय पर गायत्री परिवार के द्वारा ज्ञान से संबंधित विषयों पर विभिन्न तरह का आयोजन किया जाता है। जिसमें ज्ञान के विषय प्रमुखता के साथ गायत्री परिवार के विद्वानों द्वारा मानव सभ्यता के संबंध में बताया जाता है।

उन्होंने बताया कि रामनवमी के दिन तीन दिवसीय गायत्री महायज्ञ का आयोजन किया गया है जिसमें 11 अप्रैल से 11:30 बजे दिन से 2:30 बजे अखंड ज्योति गायत्री पाठक सम्मेलन का आयोजन किया गया है। जिसमें सभी जाति वर्ग के भावनाशील धार्मिक सामाजिक राजनीतिक बुद्धिजीवी अस्तर के व्यक्तियों को आमंत्रित किया गया है। कलश यात्रा में आयोजन समिति के लालबहादुर प्रसाद,मंजू सिन्हा, भरत साह,वीरबहादुर प्रसाद,योगेंद्र सिंह, कपिलदेव मांझी, अभिमन्यु सिंह,मुन्ना प्रसाद,सुतेश सागर, गुड्डू प्रसाद,धर्मेंद्र प्रसाद,विनोद कुमार विपुल कुमार, संतोष प्रसाद आदि कार्यकर्ता शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.