फर्जी प्रमाण पत्र पर नौकरी कर रही नियोजित शिक्षिका पर मशरख थाने में प्राथमिकी दर्ज

मशरक (सारण) मशरक प्रखंड क्षेत्र के उत्क्रमित मध्य विद्यालय डूमरशन में फर्जी प्रमाण पत्र पर 16 वर्षों से नियोजित शिक्षिका के रूप में कार्यरत थी उसके ऊपर निगरानी विभाग के द्वारा मशरक थाना में गुरुवार को प्राथमिकी दर्ज कराया हैं।

प्राथमिकी की सूचना मिलने से प्रखंड क्षेत्र के फर्जी शिक्षकों में हड़कंप मच गया है।थाने में प्राथमिकी कांड संख्या 22/2022 में बताया गया है

कि पटना उच्च न्यायालय के जनहित याचिका में बताया गया है कि उच्च न्यायालय के आदेश पर फर्जी शिक्षकों का जिला वार प्रमाणपत्र जांच प्रताल की जा रही है।

जिसमे जिला कार्यक्रम अधिकारी द्वारा भेजे गए फोल्डर में मशरक प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय डूमरशन में कार्यरत नियोजित शिक्षिका मीरा कुमारी पिता बिक्रमा माँझी गांव पदमौल ,पोस्ट अरना का नियोजन वर्ष 2006 में प्रखंड शिक्षिका के रूप में हुई थी।

शिक्षिका मीरा कुमारी के द्वारा नियोजन इकाई के दिये आवेदन तथा इंटर के प्रमाण पत्र निगरानी को उपलब्ध कराया गया जिसमे अंक पत्र रौल कोड 4121 रौल नंबर 10098 वर्ष 1995 प्राप्तांक 554 श्रेणी प्रथम को सत्यापन के लिए बिहार परीक्षा समिति को भेजा गया तो सत्यापन कराए जाने के क्रम में फर्जी प्रमाण पत्र फर्जी होने तथा गलत तरीके से छेर छार कर अंक पत्र में दूसरे की नाम की जगह अपना नाम दर्ज किए जाने के बाद 26 फरवरी 2021 को सामने आई हैं मामले में जांच प्रताल के बाद निगरारी द्वारा नियोजित शिक्षिका पर मशरक थाना में गुरुवार को प्राथमिकी दर्ज पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.