जल्द ही सोलर लाइट से गांव-गलियां रोशन होते नजर आयेंगे

सीवान(बिहार)जिले में मुख्यमंत्री ग्रामीण सोलर स्ट्रीट लाइट योजना के तहत लाइट लगाने को लेकर सरकार ने मार्गदर्शन जारी कर दी है। इससे लग रहा है कि जल्द ही यह कार्य सभी पंचायतों में शुरू हो जाएंगे। इसके बाद से सोलर लाइट से गांव-गलियां रोशन होते नजर आयेंगे। योजना के कार्यान्वयन से संबंधित ग्राम सभा की बैठक आयोजित की जाएगी। अधिष्ठापन को लेकर जिला स्तरीय समन्वय समिति द्वारा निर्धारित संख्या के संबंध में जानकारी उपलब्ध करायी जाएगी। वार्डों की प्राथमिकता सूची तैयार कर ली जाएगी।

इसी प्राथमिकता सूची के अनुरूप सोलर स्ट्रीट लाइट अधिष्ठापन किया जाएगा। वार्ड क्रियान्वयन प्रबंधन समिति द्वारा अनुमोदित स्थलों के अलावा 10 अतिरिक्त स्थलों को पंचायत स्तर पर ग्राम पंचायत की कार्यकारिणी समिति द्वारा अनुमोदित किया जाएगा। इसमें पंचायत सरकार भवन, स्वास्थ्य केंद्र, खेल-कूद का अयोजन स्थल, धार्मिक स्थल, बस, ऑटो, टमटम पड़ाव, तालाब, हाट बाजार आदि शामिल है। ग्राम पंचायत द्वारा अनुमोदित दस स्थलों को सर्वोच्च प्राथमिकता के रूप में सम्मिलित किया जाएगा। इसके बाद शेष संख्या क अनुसार कितने वार्ड पूर्णत: आच्छादित होने वाले वार्ड की संख्या सर्वसम्मति से निर्धारित कर ली जाएगी। ब्रेडा द्वारा तकनीकी स्वीकृति प्रदत्त प्राक्कलन के अनुरूप मॉडल के गुणक के आधार पर ग्राम पंचायत द्वारा सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए प्रशासनिक स्वीकृति प्रदान की जाएगी।

प्रगति असंतोषप्रद होने की स्थिति में बदला जाएगा एजेंसी
बताते चलें कि जिलाधिकारी की अध्यक्षता में गठित जिला स्तरीय समन्वय समिति पर जिलान्तर्गत योजना के कार्यान्वयन एवं समन्वयन का पूर्ण दायित्व होगा। इसकी अनुशंसा के आधार पर सदस्य सचिव सह जिला पंचायत राज पदाधिकारी के द्वारा एजेंसियों को सोलर स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए प्रखंड आवंटित किया जाएगा। एजेंसी द्वारा कार्य की प्रगति असंतोषप्रद होने की स्थिति में प्रखंड के आशिक/ पूर्ण पंचायतों को किसी दूसरी एजेंसी को आवंटित किया जाएगा। योजना के नोडल पदाधिकारी जिला पंचायत राज पदाधिकारी होंगे। परंतु जिलाधिकारी अपने स्तर से विभाग की सहमति के बाद नोडल पदाधिकारी परिवर्तित भी कर सकेंगे। जिलास्तरीय समन्वय समिति द्वारा वेयर हाउस का नियमित औचक निरीक्षण किया जाएगा। वहीं ग्राम पंचायतों में उपलब्ध राशि के अनुरूप प्रत्येक पंचायतों में लगाये जाने वाले सोलर स्ट्रीट लाइट की संख्या का निर्धारण जिलाधिकारी सह जिला स्तरीय समन्वय समिति द्वारा किया जायेगा। सोलर स्ट्रीट लाइट के अधिष्ठापन एवं पांच वर्षों तक रख-रखाव के लिए ब्रेडा द्वारा निर्धारित राशि 30669.10 का 70 फीसदी अधिष्ठापन में आवश्यक होगी।

एजेंसी द्वारा वेयर हाउस का किया जाएगा निर्धारण
एजेंसी द्वारा जिले में वेयर हाउस का स्थान का निर्धारण किया जाएगा। इसकी सूचना जिला स्तरीय समन्वय समिति को दी जाएगी। वेयर हाउस में सामग्री की सुरक्षा की पूर्ण जिम्मेवारी एजेंसी को होगी। परंतु सामग्री निर्गत जिला पंचायत राज पदाधिकारी के आदेश से होगा। एजेंसी द्वारा कार्यादेश के अनुरूप वेयर हाउस में सामग्री का प्रबंध किया जाएगा और ब्रेडा को निरीक्षण के लिए कहा जाएगा। इसके बाद निरीक्षण किया जाएगा और गुणवक्ता अनुरूप नहीं पाये जानें पर रिजेक्ट कर दिया जाएगा।

बिजली पोल पर लगाए जाएंगे सोलर लाइट

सोलर लाइट को बिजली पोल पर लगाया जाएगा। इसके लिए सभी पंचायतों में बिजली पोल की गिनती कर ली गयी है। जिला पंचायत राज विभाग के द्वारा बिजली पोल का सर्वे कराया गया है। बिजली पोल पर ही सोलर लाइट लगाने से चारों तरफ एलईडी बल्ब से रोशनी फैलेगी। शहर की तर्ज पर ग्रामीण क्षेत्र भी रोशनी से जगमग करेंगे। इस योजना से सोलर लाइट लगाने से गांव भी जगमग करेंगे। इस योजना से विद्युत ऊर्जा की बचत होगी। जिससे सरकार को भी बिजली मद में खर्च होने वाली राशि भी बचेगी। और ग्रामीणों को मुफ्त में सोलर लाइट की रोशनी भी मिलेगी। इसको लेकर ग्रामीण क्षेत्र के लोगों में उत्साह देखा जा रहा है। योजना के लिए ब्रेडा को सोलर लाइट लगााने की जिम्मेवारी मिली है। योजना की मॉनिटरिंग रिमोट से की जाएगी। इससे इस योजना का सही रूप से संचालन हो सकेगा। इसमें पंचायत प्रतिनिधियों को नहीं लगाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.