पटना उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता अवधेश पाण्डेय को राज्यपाल कोटा के तहत विधान पार्षद बनाये जाने की उठी मांग

छपरा(सारण)बिहार में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राज्य के विभिन्न राजनीतिक दलों के द्वारा अपने-अपने स्तर से तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। बिहार में कोरोना काल हो या फ़िर बाढ़ की विभीषिका झेल रहे लोगों के बीच जाकर सहायता करने में किसी भी दल के नेता या कार्यकर्ता कोई कसर नहीं छोड़ रहे है क्योंकि सभी दलों के आकाओं द्वारा फरमान जारी कर कहा गया हैं कि अपने-अपने क्षेत्रों में रहने वाले बाढ़ पीड़ितों को राशन, किरासन या अन्य तरह की सामग्री देकर उन्हें सहयोग करें।

इसी बीच पटना उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता अवधेश कुमार पाण्डेय के अधिवक्ता साथी नीरज मिश्रा के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल छपरा व्यवहार न्यायालय के अधिवक्ता साथियों के साथ नवंबर महीने में होने वाले संभावित विधान सभा चुनाव पर चर्चा कर राजग गठबंधन के उम्मीदवारों को सदन में भेजने के लिए आग्रह किया हैं।

बिहार में राजग गठबंधन की सरकार एक बार पुनः बनने से हो रहे विकास में और तेजी आएगी क्योंकि हम सभी जानते हैं कि देश के यशस्वी व लोकप्रिय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नजर में बिहार का विकाश सर्वोपरि है। जिस तरह से देश विकास की ओर अग्रसर हो रहा हैं ठीक उसी तरह से बिहार का विकास भी होना हैं हालांकि जितना विकास राज्य का होना चाहिए था उतना हुआ नहीं है क्योंकि जंगलराज के ख़ात्मे के बाद बिहार पूरी तरह से कंगाल हो चुका था।

वहीं दूसरी ओर माननीय पटना उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता साथियों के समक्ष छपरा व्यवहार न्यायालय के दर्जनों अधिवक्ता साथियों ने संयुक्त रूप से भाजपा आलाकमान से मांग करते हुए कहा हैं कि इस बार उच्च न्यायालय के वरीय अधिवक्ता सह जनसंघ से लगातार जुड़े रहने वाले सिवान ज़िले के भगवानपुर हाट निवासी अवधेश कुमार पाण्डेय को महामहिम राज्यपाल कोटा से विधान परिषद का सदस्य मनोनीत किया जाये।

मांग करने वालेअधिवक्ताओं में पटना उच्च न्यायालय के अधिवक्ता निराज कुमार मिश्र, पटना के भाजपा महानगर के नेता महफ़ूज आलम, लक्ली प्रसाद सहित कई अन्य अधिवक्ता मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.