उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए जनता दल यूनाइटेड (JDU) ने अपने 20 उम्मीदवारों की लिस्ट जारी किया

प्रदेश अध्यक्ष अनूप सिंह पटेल ने आज 20 कैंडिडेट्स के नामों का औपचारिक रूप से ऐलान किया

लखनऊ:राज्य में विधानसभा सीटों के बंटवारे को लेकर बीजेपी से जेडीयू की बात नहीं बनने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश की पार्टी जेडीयू ने एलान किया था कि वे अकेले ही इस चुनाव में उतरेगी।

इसी बीच जदयू ने आज उम्मीदवारों की सूची भी जारी कर दी है।यानी कि यूपी की सियासत की पटरी पर बिहार के दो दोस्त, दुश्मन के रूप में दिखेंगे।यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर जदयू और भाजपा में गठबंधन पर सहमति नहीं बनने के बाद जेडीयू ने यह निर्णय लिया कि वे अपने उम्मीदवारों का एलान कर देगी।

आखिरकार पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अनूप सिंह पटेल ने 20 उम्मीदवारों की सूची जारी की है। केंद्रीय नेतृत्व से सहमति मिलने के बाद इन उम्मीदवारों के नाम की लिस्ट जारी की गई है। इनमें से ज्यादातर विधानसभा सीटें ऐसी हैं जहां बीजेपी के सिटिंग कैंडिडेट हैं।

राजधानी लखनऊ में बैठक में सब फाइनल
आपको बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी से सहमति नहीं बनने के बाद पार्टी की यूपी इकाई की ओर से 18 जनवरी को लखनऊ में बैठक बुलाई गई थी। इसी बैठक के बाद से जदयू ने सुर बदल लिया।इस बैठक में पार्टी अध्यक्ष के अलावा प्रधान महासचिव केसी त्यागी व यूपी जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष भी शामिल थे।

फेल हो गए नीतीश के बिहारी ‘राम’
दरअसल जेडीयू ने यूपी चुनाव को लेकर केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह को कहा था कि वे भाजपा से बात करें। आरसीपी को पार्टी के उम्मीदवारों के नाम और वे किस विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे, उसकी सूची भी दी गई थी।पार्टी के कहे अनुसार केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह ने गृह मंत्री अमित शाह, बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और धर्मेंद्र प्रधान से बात की। हालांकि नीतीश के बिहारी ‘राम’, भारतीय जनता पार्टी के नेताओं को मनाने में असफल रहे।नतीजा ये रहा कि जेडीयू को अब अकेले ही चुनावी मैदान में उतरना होगा। पार्टी ने 51 प्रत्याशियों की सूची भी तैयार कर ली है।

बीजेपी ने नहीं दिया जेडीयू को भाव
इधर केसी त्यागी ने साफ़ कर दिया है कि जदयू यूपी चुनाव में अकेले उतरेगा।लेकिन कितनी सीटों पर चुनाव लडे़गा। इस पर अभी फैसला लेना बाकी है। फिलहाल पार्टी ने 51 उम्मीदवारों की सूची तैयार की है।इसे अप्रूव करके हमने यूपी जेडीयू अध्यक्ष को फैसला लेने के लिए अधिकृत कर दिया है।अभी तक भाजपा के साथ समझौते का अब-तक कोई संदेश उनके पास नहीं आया है।इसलिए पार्टी की बैठक बुलाकर पहली सूची पर निर्णय लेकर प्रेस कांफ्रेंस के माध्यम से इसे जारी कर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.