फाइलेरिया उन्मूलन को लेकर एनसीसी के कैडेटों ने निकाली रैली

छपरा फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत जिले में 7 अगस्त से सर्वजन दवा सेवन अभियान चलाया जाएगा। यह अभियान 14 दिनों तक चलाया जाएगा। इसको लेकर मंगलवार को एनसीसी के कैडेटों ने जागरूकता रैली निकाली। रैली को सुबेदार मेजर मनोज कुमार गुरम ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। रैली में सैकड़े ब्यॉज एंव गर्ल्स कैडेटों ने हिस्सा लिया। रैली जयप्रकाश विश्वविद्यालय कैंपस से निकलकर नेवाजीटोला, बाजार समिति, साढ़ा ढाला, छपरा कचहरी स्टेशन, योगिनिया कोठी, नगरपालिका चौक होते हुए थाना चौक पर जाकर समाप्त हो गया। जागरूकता रैली में कैडैटों द्वारा फाईलेरिया से बचाव व कारण तथा दवा खाने के बारे में जानकारी दी गयी। पीसीआई के जिला समन्वयक मानव कुमार ने बताया 2 साल से अधिक सभी लोगों को फाइलेरिया की दोनों दवा खिलाई जाएगी। 2 साल से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती महिलाएं एवं गंभीर रूप से पीड़ित लोगों को यह दवा नहीं खिलाई जाएगी। फाईलेरिया सर्वजन दवा सेवन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए जीविका,शिक्षा विभाग एवं पंचायती राज द्वारा कई स्तर पर जागरूकता अभियान भी चलाया जा रहा है। 
तीन स्तर पर होगा अनुश्रवण
अनुश्रवण एवं सहायक पर्यवेक्षण को मजबूत करने के लिए तीन स्तर पर तैयारियां की गयी है। आशा पर्यवेक्षक 10 टीम यानि 20 ड्रूग एड्मिनिसट्रेटरों की मोनिट्रिंग एवं सहयोग करेंगी। इनके द्वारा एक दिन में तीन घरों का दौरा कर निरीक्षण किया जाएगा। आशा पर्यवेक्षक प्रतिदिन ड्रूग एड्मिनिसट्रेटर से रिपोर्ट एकत्रित कर प्रखण्ड स्तर पर साझा करेंगी। इसके लिए अनुश्रवण/सुपरविजन फ़ारमैट भी तैयार किए गए हैं। बेहतर अनुश्रवण सुनिश्चित करने के लिए प्रखण्ड स्तर पर केटीएस, बीसीएम एवं अन्य प्रखंड स्तरीय मॉनिटर प्रत्येक दिन 3 आशा पर्यवेक्षकों एवं प्रति पर्यवेक्षक 1 टीम की मोनिट्रिंग करेंगे।जिला वेक्टर जनित रोग नियंत्रण अधिकारी अभियान के दौरान जिले से प्राप्त आंकड़ों को प्रतिदिन राज्य फाइलेरिया अधिकारी से साझा करेंगे। साथ ही जिले में सर्वाधिक प्रभावित प्रखंडों का दौरा कर एमडीए अभियान का जायजा लेंगे। वीबीडी समन्वयक एवं मलेरिया इंस्पेक्टर भी प्रतिदिन 3 आशा पर्यवेक्षक (3 पर्यवेक्षी क्षेत्र के ) एवं प्रत्येक पर्यवेक्षी क्षेत्र से एक टीम कवर करेंगे। 
डीईसी एवं एलबेंडाजोल की गोलियाँ खिलाई जायेगी
इस अभियान में डीईसी एवं एलबेंडाजोल की गोलियाँ लोगों की दी जाएगी। 2 से 5 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी की एक गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली, 6 से 14 वर्ष तक के बच्चों को डीईसी की दो गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली एवं 15 वर्ष से अधिक लोगों को डीईसी की तीन गोली एवं एलबेंडाजोल की एक गोली दी जाएगी। एलबेंडाजोल का सेवन चबाकर किया जाना है। खाली पेट किसी भी दवा का सेवन नहीं करना है। 
उँगलियों पर की जाएगी मर्किंग
शत-प्रतिशत लक्षित समूह को दवा सेवन सुनिश्चित कराने के मकसद से इस बार के एमडीए कार्यक्रम में कुछ नए बदलाव किए गए हैं। अब पोलियो अभियान की तर्ज़ पर एमडीए कार्यक्रम के दौरान भी दवा सेवन करने वाले लोगों के बाएँ हाथ की तर्जनी नाखून के साथ त्वचा पर मर्किंग की जाएगी। इसके लिए सभी लक्षित ज़िलों में मार्कर की उपलब्धता सुनिश्चित कराई गयी है।रैली में सुबेदार मेजर मनोज कुमार गुरम, अशोक प्रसाद यादव, सिकन्दर संडरी, हवलदार राकेश सिंह, संतोष सिंह, नसीब सिंह, संतोष कुमार राय समेत एनसीसी के सैकड़ों बालक एंव बालिका कैडेटों ने हिस्सा लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.