शाम को हुई झमाझम बारिश से किसानों के चहरे पर दिखे मुस्कान

भगवानपुर हाट(सिवान)प्रखंड क्षेत्र में रविवार के शाम में हुई झमाझम बारिश किसानों को लाभ ही लाभ।लगातार एक पखवाड़े से बदलते मौसम के मिजाज के बाद रविवार को शाम में हुई झमाझम बारिश से जहाँ किसानों को विशेष लाभ हुआ है। जो किसान पानी के अभाव में अभी तक अपने खेतो में धान के बिचड़ा नहीं डाले थे वे अब बिचड़ा डाल सकते है तो दूसरे तरफ जिन किसानों के खेत में अधिक तापमान होने से बिचरे जल रहे थे उनके बिचरे के लिए हुई बारिश अमृत के समान है। जबकि जो किसान मक्का का खेती अब तक नहीं किए है वैसे किसान बारिस के बाद अपने खेतों में मक्का की खेती कर सकते है।जबकि प्रखंड क्षेत्र के किसानों का कहना है कि यह बारिस दो सप्ताह पहले हुई होती तो किसान इस पानी से धान की बोआई करते हुए खेतो में दिखाई देते।

सडीहा के किसान रामयोधय प्रसाद का कहना है कि अधिक तापमान होने के कारण किसान अपने खेतों में धान का बिचड़ा नहीं डाला है जिसके कारण शाम को हुई झमाझम बारिश किसको कोई अधिक लाभ नहीं हुआ है।अरुआ गांव के किसान राजेश सिंह का कहना है की धान का बिचड़ा तैयार नहीं होने से किसान को इस पानी से अधिक लाभ नहीं हुआ है।जबकि जो किसान खेतो में धान का बिचड़ा डाला है उसको लाभ हुआ है।जबकि कई किसानों का मानना है  कि धान की खेती नहीं होने की उम्मीद हो चली थी लेकिन शाम को हुई बारिश से धान की खेती होने की उम्मीद हो चली है।  केवीके के वैज्ञानिक डॉ. सुनील कुमार मंडल ने बताया कि शाम को हुई बारिश से धान के बिचरे का जनरेशन अधिक होगा व जो फलदार पौधे गर्मी से झुलस रहे थे उनको राहत मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.