बिजली के संपर्क में आने से युवक की मौत

महाराजगंज थाना क्षेत्र के देवरिया गांव में बिजली के संपर्क में आने से एक 49 वर्षीय व्यक्ति की मौत हो गयी। मृतक की पहचान देवरिया गांव निवासी गुलाब गिरि के पुत्र वीरेंद्र गिरि के रूप में हुई हैं। घटना के संबंध में बताया जा रहा है कि घटना सोमवार की देर रात्रि 12:00 बजे के आस-पास की हैं। बताया जाता है कि वीरेंद्र गिरी पेशे से हलवाई का काम करता है जो किसी के यहां शादी समारोह में खाना बनाकर देर रात घर लौट रहा था। घर लौटने के दौरान साइकिल से देवरिया अंसारी मोड़ के समीप जैसे ही पहुंचा कि पहले से टूटकर गिरे एलटी तार में प्रवाहित हो रहे बिजली के संपर्क में आ गया। जिसके बाद उसकी मौत हो गई। इधर घटना की सूचना के बाद आस-पड़ोस के लोगों के द्वारा किसी तरह टूटे तार से करंट को हटाया गया। मंगलवार को अहले सुबह आक्रोशित लोगों ने बसंतपुर महाराजगंज मुख्यमार्ग पर अंसारी मोड़ के समीप शव को रख बिजली प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सड़क को घंटों बाधित रखा। आक्रोशित ग्रामीण मृतक के परिजन को ज्यादा से ज्यादा मुआवजा दिलाने की मांग में कर रहे थे। सूचना के बाद भी घंटों देरी से पहूंचे महाराजगंज थाने के एएसआई कल्लू रजक,एएसआई अरुण कुमार सिंह ने शव को अपने कब्जे में लेकर सीवान सदर अस्पताल पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।
परिवार का एक ही कमाऊ सदस्य वीरेंद्रवीरेंद्र गिरी अपने परिवार का एक ही कमाऊ सदस्य था। जो हलवाई का काम कर अपने परिवार में पत्नी समेत तीन लड़का और चार लड़कियों का भरण पोषण किया करता था। वीरेंद्र की मौत के बाद अब लोगों को परिवार कैसे चलेगी जिसकी चिंता सता रही हैं। 
खाना खाने के बाद सो गए थे परिजन तभी मिली मौत की ख़बरसोमवार की रात्रि खाना खाकर परिवार के सभी सदस्य सो रहे थे तभी अच्चानक सूचना मिली की अंसारी मोड़ के समीप वीरेंद्र को बिजली की  करंट लग गई हैं। सूचना मिलने पर वीरेंद्र के सबसे बड़े लड़के और पत्नी घरना स्थल पर भागकर पहुंचे तो देखा कि बिजली के झटके से वीरेंद्र की मौत हो गई हैं। बिजली से मौत की ख़बर पूरे गांव में आग की तरह फैल गई। मौके पर लोगों की भीड़ एकत्रित होना शुरू हो गई। किसी तरह लोगों ने ट्रांसफार्मर के पास से बिजली को बंद किया।उसके बाद शव को बिजली के तार से अलग किया।

पत्नी की रो-रोकर बुरा हाल कौन करेगा परिवार का भरण पोषण

इधर पति के मौत के बाद पत्नी मीरा देवी का रो-रो कर बुरा हाल हैं। रोते-रोते कह रहीं हैं कि अब कइसे हम जियब हो दादा घर में नइखे केहु देखनिहारवा ये दादा।
बिजली एसडीओ तथा जेई ने दिलाई मुआवजे की भरोसामहाराजगंज बिजली विभाग के जेई निरज कुमार तथा एसडीओ ने पीड़ित के परिजनों को  चार लाख रुपये मुआवजा दिलाने का भरोसा दिलाया हैं। जेई नीरज कुमार ने कहा कि कागजी प्रक्रिया के बाद पीड़ित को जल्द ही मुआवजे की राशि उपलब्ध कराई जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.