सड़कें हो गई सुनसान,बंद दुकान,हर कोई कर रहा”लाॅकडाउन”का सम्मान

जन्दाहा बाज़ार में”लाॅकडाउन” असरदार,हर तरफ सन्नाटा,बंद है बाज़ार

घरों में कैद रहने को मजबूर,व्यवसायी हो या मजदूर

प्रशासन का कर रहे सहयोग,प्रशासनिक व्यवहार से सभी खुश

जन्दाहा(वैशाली)देश में”लाॅकडाउन”का सातवां दिन है।वैशाली जिले के जन्दाहा बाज़ार का नजारा भी”लाॅकडाउन”का पूरी तरह सम्मान करते हुए दिखा।”कोरोना वायरस”से जीतने में जन्दाहा बाजार पूरी तरह तैयार है।हर कोई खुद को घरों में कैद कर लिया है चाहे व्यवसायी हो या मजदूर हो सब घरों में रहने को मजबूर हैं।सड़कें सुनसान हैं।दुकान बंद है।बाज़ार से होकर गुजरने वाले सबसे व्यस्ततम सड़क एन एच 322भी खामोश है।दिन-रात बजते गाड़ियों की भोंपू अभी थम गई है।एक्का-दुक्का लोगों को छोड़कर बाज़ार में आने-जाने वालों में काफी कमी आई है।

पूरा बाज़ार सन्नाटे में है।धीरे-धीरे शहर के अलावा अब गांव में भी “लाॅकडाउन”का पालन पूरी तरह लोगों के द्वारा खुद ब खुद किया जा रहा है।जो सच में “कोरोना वायरस”को रोकने में मददगार साबित होगा।वैसे लोगों से अब भी अपील है कि घरों में ही रहें बगैर जरूरत बाहर न निकलें।यह वक्त आप सभी के लिए अनमोल है।वहीं प्रशासन को भी चाहिए कि “लाॅकडाउन”का पालन सख्ती से नहीं बल्कि सतर्कता के साथ कराएं।सड़कों पर चलने वाले लोगों को समझाएं न कि बर्बरता से पिटाई करें।वैसे जन्दाहा प्रशासन के द्वारा किए जा रहे व्यवहार से सभी खुश हैं और प्रशासन का सहयोग भी कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.