एसडीओ ने किराना तथा फल विक्रेताओं को रेट चार्ट तुरंत लगाने का निर्देश दिया

महाराजगंज (सीवान) कोरोना को लेकर पूरे देश में लगाए गए लॉकडाउन का असर महाराजगंज में भी देखने को मिल रहा है। आज सुबह से ही अनुमंडल प्रशासन के द्वारा शहर के भिन्न-भिन्न इलाकों में दौरा कर जहां बगैर कार्य के शहर में घूम रहे लोगों को वापस उनके घर लौटन जाने की बात कही। वहीं स्थानीय लोगों की शिकायत पर दुकानदारों द्वारा खाद्यान्न सामग्री पर ज्यादा कीमत ली जा रही है। अनुमंडल पदाधिकारी मंजीत कुमार द्वारा कई दुकानों पर सघन छापेमारी की गई और दुकानदारों को सख्त चेतावनी देते हुए किराना तथा फल विक्रेताओं को दुकानों के सामने रेट चार्ट लगाने का तुरंत निर्देश दिया।

जिसका असर देखने को मिल रहा है। बाजार के कई दुकानदारों द्वारा अपने दुकानों के सामने रेट कार्ड लगा दिया गया है। जिससे ग्राहकों को सामानों की कीमत का सही जानकारी हो सके इस बीच एसडीएम और एसडीपीओ हरीश शर्मा द्वारा शहर के कई चौक चौराहों पर अनावश्यक रूप से घूम रहे बाइक सवारों को रोका और उन्हें कड़ी हिदायत देते हुए वापस घर लौटा दिया। एसडीएम मंजीत कुमार ने शहर के चौक चौराहों पर लाउडस्पीकर से खुद प्रचार करते हुए लोगों से शहर में नहीं आने और अपने घरों में रहने तथा दुकानदारों को कालाबाजारी नहीं करने का सख्त आदेश दिया साथ ही कहा कि अगर कहीं भी कालाबाजारी की शिकायत मिलती है तो उस दुकानदार के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।

इधर जिले के वरिष्ठ पत्रकार इंजीनियर प्रमोद रंजन शहर में घूम कर शहरवासियों से घरों में रहने की अपील की उन्होंने कहा कि देश में बढ़ते कोरोना वायरस के महामारी से बचाव के लिए अपने घरों में ही रहना एकमात्र बचाव का उपाय है। इस दौरान शहर में लाॅकडाउन कराने में बीडीओ नन्दकिशोर साह, नगर कार्यपालक पदाधिकारी अरविंद कुमार, सीडीपीओ सोहेल अहमद, थानाध्यक्ष मनीष कुमार साहा, सर्किल इंस्पेक्टर बृजानन्द जी, एसआई शंकर उरांव आदि लगे रहे। 
लाॅकडाउन को लेकर सभी प्रशासनिक तैयारी पुरी कर ली गयी है। इस संबंध में लोगों को निर्देशित किया गया है। माननीय प्रधानमंत्री के द्वारा इस संबंध में लोगों को सूचित कर दिया गया है। लोगों से एकबार में ही किराना व दवा सहित जरूरी के सभी समान एक साथ खरीद कर अपने घरों में रहे और केन्द्र व राज्य सरकार के निर्देशों का पालन करे। मंजीत कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी महाराजगंज 

Leave a Reply

Your email address will not be published.