9 अगस्त को छात्र एकता मंच अखिल भारतीय स्तर विरोध प्रदर्शन किया

सोनीपत 9 अगस्त को छात्र एकता मंच अखिल भारतीय विरोध प्रदर्शन में मजदूर, कर्मचारी, छात्र, किसान आदि की मांगों को लेकर शामिल हुआ। हम अंबेडकर पार्क, बस स्टैंड सोनीपत से मार्च करते हुए व नारे लगाते हुए पंचायत भवन पहुंचे। वहां विभिन्न संगठन अपनी अपनी मांगों को लेकर इकट्ठा हुए थे। वहां से मार्च करते हुए सभी संगठन डीसी ऑफिस स्थित धरना स्थल पर पहुंचे। छात्र एकता मंच के अध्यक्ष सचिन ने बताया कि, “सरकार नई शिक्षा नीति 2020 लेकर आ रही है जिसमें यूजीसी जो स्कूल कॉलेजों को ग्रांट दिया करता था अब उसकी जगह HEFA को दे दिया है जो एक निजीकरण को बढ़ावा देने वाली संस्था है जिसके तहत कॉलेज एवं विश्वविद्यालय मे एसएफएस के कोर्स चलाए जा रहे हैं जिसमें स्कूल कॉलेजों को स्वायत्तता दी जा रही है, जिससे वे जितना चाहे फीस वसूल सकते हैं।

दूसरी ओर शिक्षा के क्षेत्र में ऑनलाइन शिक्षा प्रणाली जो कि असमानता को बढ़ावा देने वाली व्यवस्था है आज शिक्षा को वैज्ञानिकता और तार्किकता से दूर करके पाखंडवाद की ओर धकेल रही है। श्रम कानूनों को 3 साल तक रद्द कर दिया गया है और 8 घंटे के काम को 12 घंटे कर दिया गया है, जिसका हम पुरजोर विरोध करते हैं। हम सरकार से मांग करते है कि
मुख्य मांगे-

  • भेदभावपूर्ण नई शिक्षा नीति 2020 को तुरंत रद्द करों।
  • श्रम कानूनों में बदलाव करना बन्द करो।
  • न्यूनतम वेतन 25000 ₹ करों।
  • मनरेगा में 200 दिन के काम की गारंटी दो।
  • ठेका प्रथा बंद करो।
  • हरियाणा में निकाली गई 1983 पीटीआई अध्यापकों को व केडीपी कर्मचारियों को बहाल किया जाए।
  • केजी से पीजी तक मुफ्त शिक्षा देने की व्यवस्था की जाए।
  • फर्जी मुकदमों में किए गए राजनीतिक बंदियों को रिहा किया जाए वे यूएपीए जैसे काले कानून को रद्द किया जाए |
    छात्र एकता मंच

Leave a Reply

Your email address will not be published.