नियोजित शिक्षकों के बेमियादी हड़ताल पर चले जाने से पठन पाठन ठप

भगवानपुर हाट (सीवान) समान काम समान वेतन के मद्देनजर 10 वें दिन भी नियोजित शिक्षक अपनी मांगों के समर्थन में बीआरसी मुख्यालय पर जमे रहे।शिक्षकों के हड़ताल पर चले जाने से विधायकों में पठन पाठन ठप हो चुका है। हड़ताली शिक्षकों ने सरकार से मांग किया कि सरकार अड़ियल रवैये को त्याग कर अविलंब राष्ट्रनिर्माता शिक्षकों के मांग पर विचार करना चाहिए ।सर्वविदित है कि शिक्षकों की गोद में प्रलय और निर्माण दोनों ही पलते हैं।यह कैसी विडंबना है देश की पांच साल  तक विधायक व सांसद बनने पर उसे तत्काल पेंशन का लाभ दिया जाता है और साठ साल सेवा में रहने के बाद भी शिक्षक इससे महरूम रहते हैं।दुर्भाग्य है इस देश का जहां एक ही छत की नीचे काम करने वाले को एक तरफ 80000 तो दूसरे तरफ 30000 ।

ऐसे में सरकार उन नौनिहालों के भविष्य का सौदा करती प्रतीत होती है।उसे नौनिहालों के भविष्य की तनिक भी चिंता नहीं।सरकार की शिक्षा की प्रति दोहरी नीति से इन बच्चों का  भविष्य अंधकारयुक्त हो चुका है।इस धरना में शामिल शिक्षकों में श्रीराम प्रसाद,प्रेम कुमार सिंह,रघुशरण प्रसाद,सुरेन्द्र सिंह,राम अयोध्या सिंह,विनोद कुमार पासवान,संभु नाथ ठाकुर,अनवर अली,संतोष कुमार सिंह,सुरेश मांझी,मनोज शर्मा,रतिकांत पांडेय,सत्येंद्र प्रसाद,शशि कांत पांडेय,विनय कुमार,सागर कुमार सिंह,देव कुमार यादव,राजेन्द्र प्रसाद,आनंद प्रभाकर,अशोक तिवारी,दिनेश कुमार राम,नागेंद्र यादव,सुमन कुमारी,सिमा कुमारी,मधुरिमा कुमारी,रेणु देवी,नीलम कुमारी,नीलम कुमारी,नीलम देवी,,सुशीला यादव,आरती कुमारी,निकहत प्रवीण,निपु कुमारी,सम्भा कुमारी,मनिंद्र कुमार, आनंद प्रकाश पांडेय आदि शामली थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.